श्री सुर्य देव के सबसे लोकप्रिय भजनों का संग्रह : Surya Dev Bhajan Lyrics

कलयुग में श्री सूर्य देव ही ऐसे देवता हैं जो साक्षात है। इनका प्रतिदिन दर्शन होते हैं। सूर्य देव तेज कांति के प्रतीक हैं। सूर्य देव की पूजा आराधना से मनुष्य की जीवन सुगम सरल बनता है। सूर्य देव की पूजा आराधना में भजनों का विशेष महत्व है। आज के लेख में हम श्री सूर्य देव जी की कुछ लोकप्रिय भजनों का लिरिक्स जानेंगे।

1. सूर्य देव भजन लिरिक्स –  सूर्य देव का वार है

https://youtube.com/watch?v=rLUn5Y4PNZA%3Ffeature%3Doembed

( सूर्य देव का वार है उर्जा का संचार है – विडियो )

सूर्य देव का वार है उर्जा का संचार है ।

रवि वार दिन सूर्ये देव का पूज रहा संसार है ।।

सूर्य देव का वार है उर्जा का संचार है ।

सूर्ये देव का रथ चलता है तो जन जीवन चलता है,

पाके ऊष्मा सूर्ये देव की धरा का आँचल खिलता है ।

यही सूर्य का सार है उर्जा का संचार है,

रवि वार दिन सूर्ये देव का पूज रहा संसार है ।।

सूर्य देव का वार है उर्जा का संचार है ।

रवि वार दिन सूर्ये देव का पूज रहा संसार है ।।

प्राहते काल की नर्म लाली माँ सूर्ये देव जब लाते है,

जन जीवन जागृत होता पंशी गुण गुण गाते है ।

धरती का शिंगार है उर्जा का संचार है,

रवि वार दिन सूर्ये देव का पूज रहा संसार है ।।

सूर्य देव का वार है उर्जा का संचार है ।

रवि वार दिन सूर्ये देव का पूज रहा संसार है ।।

सूर्ये देव का जो प्रति दिन पूजन वन्दन करता है,

नियमत करे अश्नान ध्यान जो रवि अभिनंद करता है ।

कटता रोग विकार है उर्जा का संचार है,

उर्जा का संचार है ।।

सूर्य देव का वार है उर्जा का संचार है ।

रवि वार दिन सूर्ये देव का पूज रहा संसार है ।।

2. श्री सूर्य देव भजन लिरिक्स – आज रविवार है सुर्य देव का वार है

https://youtube.com/watch?v=FRvPdo8vCFs%3Ffeature%3Doembed

( आज रविवार है सुर्य देव का वार है – विडियो )

आज रविवार है सुर्य देव का वार है

आज रविवार है सुर्य देव का वार है,

इन से जग उजयार है,

नव ग्रहो में शक्तिशाली महिमा अप्रम पार है,

नव ग्रहो में सूर्य देव ही सब से पहले आते है,

बाकी सारे ग्रह तो इनकी परिकर्मा लगाते है,

तेज तो अपार है सूर्य देव का वार है,

नव ग्रहो में शक्तिशाली महिमा अप्रम पार है,

रवि वार को सूर्य देव को जल जो अर्पित करते है,

पाप ताप से मुक्त होते खाली झोली भरते है,

भव से होते पार है सूर्य देव का वार है,

नव ग्रहो में शक्तिशाली महिमा अपरम्पार है,

यम यमुना शनि देव जी इनका तो परिवार है,

जिनकी तेज से तीनो लोक में हो जाता उजयार है,

मिट जाता अंधियार है सूर्य देव का वार है,

नव ग्रहो में शक्तिशाली महिमा अपरम्पार है,

माँ गायत्री मंत्र है प्यारा सूर्य देव को भाता है,

रविवार को एक माला मंत्र जो ये जप जाता है,

हो जाता उधार हिअ सूर्ये देव का वार है,

नव ग्रहो में शक्तिशाली महिमा अपरम्पार है,

नव ग्रहो में शक्तिशाली महिमा अपरम्पार है।

3. सूर्यदेव अमृतवाणी लिरिक्स

सूर्य देव का नाम जप,रख मन भक्ति भाव,

सरल सुलभ हो मार्ग सब, जब हो इनका प्रभाव,

नमस्कार से भागते, दम्भ और अभिमान,

दुनियाँ तुझको नमन करे, देके मान सम्मान,

सूर्य जी प्रभात में,मंगल फल है देत,

साधक के तिमिर सभी, पल में वो हर लेत,

जीवन में आदित्य जी, समृद्धि भर देत,

जीवन नदिया आग की, उस पर ये है सेत,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान,

सबसे पहले जो इन्हें, जल करता अर्पण,

उसके धुले सब पाप और निर्मल होत मन,

चढ़ा के जल आदित्य पे, अपना माथा टेक,

तेरे भाग्य की सदा, बदल जायेगी रेख,

सबसे पहले अर्चना, आपकी हितकारी,

जीवन राहों की बाधा, मिट जाएं सारी,

प्रथम पूजनीय आप हो, प्रथम दर्शनीय आप,

मंगल करता दुःख हरता,सुख करता हो आप,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान,

श्रद्धा है यदि जाप में, तब पूरण सब काज,

है विश्वाश से हर्षाते, आदित्य महाराज,

सूर्य देव के तीन रूप, सुबह दोपहर शाम,

जनहित में तत्पर रहे, दयालु आठों याम,

सूर्य देव की महिमा से, शुभ मंगल बरसे,

शुभ शुभ चारों ओर हो, सूर्य देव हर्षें,

अँधियारा अज्ञान है, उजियारा है ज्ञान,

ज्ञानी बनके हो यहाँ, रस्सी साँप का भान,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान,

तू समस्त ब्रह्माण्ड को रौशन करते हो,

बुद्धिहीन मेंज्ञान का प्रकाश भरते हो,

साथ घोड़ों के रथ की करते असवारी,

सप्त रंगी है प्रभु, लीला जग न्यारी,

ज्ञान बाँटते रहते हैं देव जी आठों याम,

अज्ञानी चतुर हुआ, जपा जो तेरा नाम,

आपके तेज़ की आभा जो, हमकों मिल जाएँ,

अंधियारे के भ्रम सभी, एक पल में मिट जाएँ,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान,

बालक को ये बुद्धि का, ऐसा देते वरदान,

शिक्षा प्राप्त करके वो, बन जाता विद्धवान

इनके तेज से बालक में, बुद्धि का विकास,

पढ़ लिख कर माँ बाप की, पुरण करता आस,

सूर्य देव की महिमा से, पथ पर बढ़ता जाए,

शिक्षा में उसको कभी, बाधा नहीं सताए,

बालक जब युवा बनें, अच्छी सोच को पाय,

वर सूरज भगवान् का, उन्नति पथ है दिखाय,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान,

तरुणी को प्रभु सुंदरता, तेज़ करे प्रदान,

शुभ विचार मन में भरे, ऐसा देते हैं ज्ञान,

तेज़ बुद्धि का दीप भी, जब रौशन हो जाए,

समझदारी से काम कर, बिगड़े काम बनाय,

सूर्य देव की कृपा से, बिगड़े सब बात,

जीवन साथी मिले यहाँ, जीवन भर दे साथ,

वृद्धों की निर्बलता को हर लेते भगवान,

निर्धन को पल में प्रभु, बना देते धनवान,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान,

व्यापरी को लाभ का, देते प्रभु वरदान,

निर्धन को लेकर शरण, कर देते धनवान,

सेवा में रत सेवक की, पल में तरक्की होय,

विमुख जो इनसे हो जाता, जीवन भर वो रोय,

बांझों को संतान का, तुमसे है वर मिलता,

जिससे सूने घर उनके, कुल का पुष्प खिलता,

सूर्य देव की कृपा से, रोज़गार मिल जाए,

कंगाली में भी हे प्रभु, समृद्धि आ जाए,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान

वैभवता को सूर्य देव, तुम पूर्ण करते हो,

तुम सब कलह लड़ाई को, दूर करते हो,

सत्य मार्ग पर झूठों को, तुम्हीं चलाते हो,

अपने वचनों को प्रभु, ख़ूब निभाते हो,

जो भटके हैं राह से तुम, राह दिखाते हो,

भूलने वाले को जीवन का हेत बताते हो,

बेईमानों को सबक ऐसा सिखाते हो,

सच्चाई की राह पर, उसे चलाते हो,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान,

इनकी पूजा में कभी करो ना कोई विलम्ब,

मन से त्याग दो अभिमान, दिल से त्यागों दम्भ,

सूर्य देव का तेज़ जो, किसी को मिल जाए,

काली रात दुखों की कभी, उसको ना सताए,

वंदन श्रद्धा भाव से फल दायक हो जाए,

सूर्य भक्त के पास में, विपदा कभी ना आए,

सूर्य की पूजा से सदा, शुभ मिलता वरदान,

उसके बिगड़े काज बनें, जो करता आह्वान,

जय जय सूर्य भगवान्,

जय जय सूर्य भगवान।

1. Surya Dev Ka Vaar Hai Lyrics in English

Surya Dev Ka Vaar Hai Urja Ka Sanchaar Hai ।

Ravi Vaar Din Soorye Dev Ka Pooj Raha Sansaar Hai ।।

Surya Dev Ka Vaar Hai Urja Ka Sanchaar Hai ।

Ravi Vaar Din Soorye Dev Ka Pooj Raha Sansaar Hai ।।

Surya Dev Ka Rath Chalata Hai To Jan Jeevan Chalata Hai,

Paake Ooshma Soorye Dev Kee Dhara Ka Aanchal Khilata Hai ।

Yahee Soory Ka Saar Hai Urja Ka Sanchaar Hai,

Ravi Vaar Din Soorye Dev Ka Pooj Raha Sansaar Hai ।।

Surya Dev Ka Vaar Hai Urja Ka Sanchaar Hai ।

Ravi Vaar Din Soorye Dev Ka Pooj Raha Sansaar Hai ।।

Praahate Kaal Kee Narm Laalee Maan Soorye Dev Jab Laate Hai,

Jan Jeevan Jaagrit Hota Panshee Gun Gun Gaate Hai ।

Dharatee Ka Shingaar Hai Urja Ka Sanchaar Hai,

Ravi Vaar Din Soorye Dev Ka Pooj Raha Sansaar Hai ।।

Surya Dev Ka Vaar Hai Urja Ka Sanchaar Hai ।

Ravi Vaar Din Soorye Dev Ka Pooj Raha Sansaar Hai ।।

Soorye Dev Ka Jo Prati Din Poojan Vandan Karata Hai,

Niyamat Kare Ashnaan Dhyaan Jo Ravi Abhinand Karata Hai ।

Katata Rog Vikaar Hai Urja Ka Sanchaar Hai,

Urja Ka Sanchaar Hai ।।

Surya Dev Ka Vaar Hai Urja Ka Sanchaar Hai ।

Ravi Vaar Din Soorye Dev Ka Pooj Raha Sansaar Hai ।।

16 thoughts on “श्री सुर्य देव के सबसे लोकप्रिय भजनों का संग्रह : Surya Dev Bhajan Lyrics”

Leave a Comment