बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा | badi mushkil baba badi mushkil lyrics

badi mushkil baba badi mushkil lyrics

बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है, ये गंवाने के काबिल नहीं है।
नाम हरि का हृदय से न भूलो, ये भुलाने के काबिल नहीं है।।

1. चोला अनमोल तेरा सिला है, जिसमें जीवन का फूल खिला है।
श्वांसा गिन-गिन के तुझको मिला है, यूं लुटाने के काबिल नहीं है।।

2. ऐसे अनमोल जीवन को पाकर, खोज अपनी न की मन लगाकर।
अब तो भगवान के पास जाकर, मुंह दिखाने के काबिल नहीं है।।

3. बात मानो ये बिल्कुल सही है, जिसकी देहात्मा बुद्धि रही है।
आत्मा का बोध जिसको नहीं है, मुक्ति पाने के काबिल नहीं है।।

4. तूने नर तन को पाकर क्या कीता, जो पढ़ी न सुनी भगवदगीता।
साधु सन्यासी बन मन नहीं जीता, संत कहलाने के काबिल नहीं है।।

बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा | badi mushkil baba badi mushkil lyrics

badi mushkil baba badi mushkil lyrics

बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है, ये गंवाने के काबिल नहीं है।
नाम हरि का हृदय से न भूलो, ये भुलाने के काबिल नहीं है।।

1. चोला अनमोल तेरा सिला है, जिसमें जीवन का फूल खिला है।
श्वांसा गिन-गिन के तुझको मिला है, यूं लुटाने के काबिल नहीं है।।

2. ऐसे अनमोल जीवन को पाकर, खोज अपनी न की मन लगाकर।
अब तो भगवान के पास जाकर, मुंह दिखाने के काबिल नहीं है।।

3. बात मानो ये बिल्कुल सही है, जिसकी देहात्मा बुद्धि रही है।
आत्मा का बोध जिसको नहीं है, मुक्ति पाने के काबिल नहीं है।।

4. तूने नर तन को पाकर क्या कीता, जो पढ़ी न सुनी भगवदगीता।
साधु सन्यासी बन मन नहीं जीता, संत कहलाने के काबिल नहीं है।।