कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं | kabhi pyase ko pani pilaya nahin lyrics

kabhi pyase ko pani pilaya nahin bhajan

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं, बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा ।
कभी गिरते हुए को उठाया नहीं, बाद आंसू बहाने से क्या फ़ायदा ॥

मैं तो मंदिर गया, पूजा आरती की, पूजा करते हुए यह ख़याल आ गया ।
कभी माँ बाप की सेवा की ही नहीं, सिर्फ पूजा के करने से क्या फ़ायदा ॥

मैं तो सतसंग गया, गुरु वाणी सुनी, गुरु वाणी को सुन कर ख्याल आ गया ।
जनम मानव का ले के दया ना करी, फिर मानव कहलाने से क्या फ़ायदा ॥

मैंने दान किया मैंने जप तप किया दान करते हुए यह ख्याल आ गया ।
कभी भूखे को भोजन खिलाया नहीं दान लाखों का करने से क्या फ़ायदा ॥

गंगा नहाने हरिद्वार काशी गया, गंगा नहाते ही मन में  ख्याल आ गया ।
तन को धोया मनर मन को धोया नहीं फिर गंगा नहाने से क्या फ़ायदा ॥

मैंने वेद पढ़े मैंने शास्त्र पढ़े, शास्त्र पढते हुए यह ख़याल आ गया ।
मैंने ज्ञान किसी को बांटा नहीं, फिर ग्यानी कहलाने से क्या फ़ायदा ॥

माँ पिता के ही चरणों में ही चारो धाम है, आजा आजा यही मुक्ति का धाम है ।
पिता माता की सेवा की ही नहीं फिर तीर्थों में जाने का क्या फ़ायदा ॥

kabhi pyase ko pani pilaya nahin lyrics

kabhi pyase ko pani pilaya nahin bhajan

kabhi pyase ko pani pilaya nahi

badme amruth pilane se kya fayda

kabhi girte huve ko uthaya nahi

badme aasu bahane se kya fayda.

[mein toh mandir gayi,puja-aarti ki

puja karte huve ye khayal aa gaya]..(2)

kabhi maa-baap ki seva ki hi nahi

sirf puja ke karne se kya fayda;

kabhi pyase…………fayda.

[mein toh satsang gayi, guru vani suni,

guru vani ko sunkar khayal aa gaya]..(2)

janm manav ka leke daya naa kari

fir manav kehlane se kya fayda;

kabhi pyase………….fayda.

[maine daan diya, maine jap-tap kiya

daan karte huve ye khayaal aa gaya]…(2)

kabhi bhuke ko bhojan khilaya nahi

daan lakho ka karke kya fayda;

kabhi pyase…………fayda.

[ganga nahane haridhwar kashi gayi

ganga nahane hi mann me khayal aa gaya]…(2)

tann ko dhoya magar mann ko dhoya nahi

fir ganga nahane se kya fayda;

kabhi pyase…………fayda.

[maine veda padhe,maine shashtra padhe

shashtra padhte hue ye khayaal aa gaya]…(2)

maine gyaan kisiko baata nahi

fir gyaani kehlaane se kya fayda;

kabhi pyase…………fayda.

[maa-pita ke charno mein charo dham hai

aaja-aaja yahi mukti ka dham hai]…(2)

pita-mata ki seva ki hi nahi

fir tirtho mein jaane se kya fayda;

kabhi pyase…………fayda.

kabhi girte huve ko uthaya nahi

[badme aasu bahane se kya fayda]…(3)

kabhi pyase ko pani lyrics

Leave a Comment