Kuber Chalisa Lyrics Hindi English

श्री कुबेर चालीसा हिंदी में

॥ दोहा ॥

जैसे अटल हिमालय और जैसे अडिग सुमेर ।

ऐसे ही स्वर्ग द्वार पै, अविचल खड़े कुबेर ॥

विघ्न हरण मंगल करण, सुनो शरणागत की टेर ।

भक्त हेतु वितरण करो, धन माया के ढ़ेर ॥

॥ चौपाई ॥

जै जै जै श्री कुबेर भण्डारी ।

धन माया के तुम अधिकारी ॥

तप तेज पुंज निर्भय भय हारी ।

पवन वेग सम सम तनु बलधारी ॥

स्वर्ग द्वार की करें पहरे दारी ।

सेवक इंद्र देव के आज्ञाकारी ॥

यक्ष यक्षणी की है सेना भारी ।

सेनापति बने युद्ध में धनुधारी ॥

महा योद्धा बन शस्त्र धारैं ।

युद्ध करैं शत्रु को मारैं ॥

सदा विजयी कभी ना हारैं ।

भगत जनों के संकट टारैं ॥

प्रपितामह हैं स्वयं विधाता ।

पुलिस्ता वंश के जन्म विख्याता ॥

विश्रवा पिता इडविडा जी माता

विभीषण भगत आपके भ्राता ॥

शिव चरणों में जब ध्यान लगाया ।

घोर तपस्या करी तन को सुखाया ॥

शिव वरदान मिले देवत्य पाया ।

अमृत पान करी अमर हुई काया ॥

धर्म ध्वजा सदा लिए हाथ में ।

देवी देवता सब फिरैं साथ में ॥

पीताम्बर वस्त्र पहने गात में ।

बल शक्ति पूरी यक्ष जात में ॥

स्वर्ण सिंहासन आप विराजैं ।

त्रिशूल गदा हाथ में साजैं ॥

शंख मृदंग नगारे बाजैं ।

गंधर्व राग मधुर स्वर गाजैं ॥

चौंसठ योगनी मंगल गावैं ।

ऋद्धि सिद्धि नित भोग लगावैं ॥

दास दासनी सिर छत्र फिरावैं ।

यक्ष यक्षणी मिल चंवर ढूलावैं ॥

ऋषियों में जैसे परशुराम बली हैं ।

देवन्ह में जैसे हनुमान बली हैं ॥

पुरुषोंमें जैसे भीम बली हैं ।

यक्षों में ऐसे ही कुबेर बली हैं ॥

भगतों में जैसे प्रहलाद बड़े हैं ।

पक्षियों में जैसे गरुड़ बड़े हैं ॥

नागों में जैसे शेष बड़े हैं ।

वैसे ही भगत कुबेर बड़े हैं ॥

कांधे धनुष हाथ में भाला ।

गले फूलों की पहनी माला ॥

स्वर्ण मुकुट अरु देह विशाला ।

दूर दूर तक होए उजाला ॥

कुबेर देव को जो मन में धारे ।

सदा विजय हो कभी न हारे ।

बिगड़े काम बन जाएं सारे ।

अन्न धन के रहें भरे भण्डारे ॥

कुबेर गरीब को आप उभारैं ।

कुबेर कर्ज को शीघ्र उतारैं ॥

कुबेर भगत के संकट टारैं ।

कुबेर शत्रु को क्षण में मारैं ॥

शीघ्र धनी जो होना चाहे ।

क्युं नहीं यक्ष कुबेर मनाएं ॥

यह पाठ जो पढ़े पढ़ाएं ।

दिन दुगना व्यापार बढ़ाएं ॥

भूत प्रेत को कुबेर भगावैं ।

अड़े काम को कुबेर बनावैं ॥

रोग शोक को कुबेर नशावैं ।

कलंक कोढ़ को कुबेर हटावैं ॥

कुबेर चढ़े को और चढ़ादे ।

कुबेर गिरे को पुन: उठा दे ॥

कुबेर भाग्य को तुरंत जगा दे ।

कुबेर भूले को राह बता दे ॥

प्यासे की प्यास कुबेर बुझा दे ।

भूखे की भूख कुबेर मिटा दे ॥

रोगी का रोग कुबेर घटा दे ।

दुखिया का दुख कुबेर छुटा दे ॥

बांझ की गोद कुबेर भरा दे ।

कारोबार को कुबेर बढ़ा दे ॥

कारागार से कुबेर छुड़ा दे ।

चोर ठगों से कुबेर बचा दे ॥

कोर्ट केस में कुबेर जितावै ।

जो कुबेर को मन में ध्यावै ॥

चुनाव में जीत कुबेर करावैं ।

मंत्री पद पर कुबेर बिठावैं ॥

पाठ करे जो नित मन लाई ।

उसकी कला हो सदा सवाई ॥

जिसपे प्रसन्न कुबेर की माई ।

उसका जीवन चले सुखदाई ॥

जो कुबेर का पाठ करावै ।

उसका बेड़ा पार लगावै ॥

उजड़े घर को पुन: बसावै ।

शत्रु को भी मित्र बनावै ॥

सहस्त्र पुस्तक जो दान कराई ।

सब सुख भोद पदार्थ पाई ॥

प्राण त्याग कर स्वर्ग में जाई ।

मानस परिवार कुबेर कीर्ति गाई ॥

॥ दोहा ॥

शिव भक्तों में अग्रणी, श्री यक्षराज कुबेर ।

हृदय में ज्ञान प्रकाश भर, कर दो दूर अंधेर ॥

कर दो दूर अंधेर अब, जरा करो ना देर ।

शरण पड़ा हूं आपकी, दया की दृष्टि फेर ।।

-: श्री कुबेर चालीसा समाप्त :-

Shri Kuber Chalisa in English

॥ Doha ॥

Jaise Atal Himalay Aur Jaise Adig Sumer !

Aise Hi Swarg Dwar Pai,Avichal Khade Kuber !!

Vighn Haran Mangal Karan, Suno Sharanagat Ki Ter !

Bhakt Hetu Vitaran Karo, Dhan Maya Ki Dher !!

॥ Chaupai ॥

Jai Jai Jai Shri Kuber Bhandari !

Dhan Maya Ke Tum Adhikari !!

Tap Tej Punj Nirbhay Bhay Hari !

Pavan Veg Sam Sam Tanu Baladhari !!

Swarg Dwar Ki Karein Pahare Dari !

Sevak Indra Dev Ke Agyakari !!

Yaksha Yakshani Ki Hai Sena Bhari !

Senapati Bane Yuddh Me Dhanudhari !!

Maha Yoddha Ban Shastr Dharain !

Yuddh Karain Shatru Marain !!

Sada Vijayi Kabhi Na Harain !

Bhagat Jano Ke Sankat Tarain !!

Prapitamah Hain Swayam Vidhata !

Pulist Vansh Ke Janm Vikhyata !!

Vishrava Pita Idavida Ji Mata !

Vibhishan Bhagat Apake Bhrata !!

Shiv Charano Me Jab Dhyan Lagaya !

Ghor Tapasya Kari Tan Sukhaya !!

Shiv Varadan Mile Devaty Paya !

Amrit Pan Kari Amar Kaya !!

Dharm Dhwaja Sada Liye Hath Me !

Devi Devata Sab Phirain Sath Me !!

Pitambar Vastra Pahane Gath Me !

Bal Shakti Poori Yaksha Jat Me !!

Swarn SInhasan Ap Virajain !

Trishul Gada Hath Me Sajain !!

Shankh Mridang Nagare Bajain !

Gandharv Rag Madhur Gajain !!

Chausath Yogani Mangal Gavain !

Riddhi Siddhi Nit Bhog Lagavain !!

Das Dasini Sir Chhatra Phiravain !

Yaksha Yakshani Mol Chanvar Dhulavain !!

Rishiyom Me Jaise Parashuram Bali Hain !

Devanh Me Jaise Hanuman Bali Hain !!

Purusho Me Jaise Bhim Bali Hain !

Yaksho Me Aise Hi Kuber Bali Hain !!

Bhagato Me Jaise Prahlad Bade hain !

Pakshiyo Me Jaise Garud Bade hain !!

Nagon Me Jaise Shesh Bade hain !

Vaise Hi Bhagat Kuber Bade hain !!

Kandhe Dhanush Hath Me BHala !

Gale Phoolon Ki Pahani Mala !!

Swarn Mukut Aru Deh Vishala !

Door Door Tak Hoye Ujala !!

Kuber Dec Ko Jo Man Dhare !

Sada Vijayi Ho Kabhi Na Hare !!

Bigade Kam Bane Jaye Sare !

Anna Dhan Ke Eahe Bhare Bhandare !!

Kuber Garib Ko Ap Ubharain !

Kuber Karj Ko shighra Utarain !!

Kuber Bhagat Ke Sankat Tarain !

Kuber Shatru Ko Kshan Me Marain !!

Shighr Dhani Jo Hona Chahe !

Kyun Nahi Yaksha Kuber Manaye !!

Yah Path JO Padhe Padhaye !

Din Dugana VYapar Badhaye !!

Bhoot Prete Ko Kuber Bhagavain !

Ade Kam Ko Kuber Banavain !!

Rog Shok Ko Kuber Nashavain !

Kalank Koodh Ko Kuber Hatavain !!

Kuber Chadhe Ko Aur Chadha De !

Kuber Gire Ko Punah Utha De !!

Kuber Bhagya Ko Turant Jaga De !

Kuber Bhule Ko Rah Bata De !!

Pyase Ki Pyas Kuber Bujha De !

Bhukhe Ki Bhukh Kuber Mita De !!

Rogi Ka Rog Kuber Ghata De !

Dukhiya Ka Dukh Kuber Chhuta De !!

Banjh Ki God Kuber Bhara De !

Karobar Ko Kuber Badha De !!

Karagar Se Kuber Chhuda De !

Chor Thago Se Kuber Bacha De !!

Kort Kes Me Kuber Jitavai !

Jo Kuber Ko Man Me Dhyavai !!

Chunav Me Jit Kuber Karavain !

Mantri Pad Par Kuber Bithavain !!

Path Kare Jo Nit Man Lai !

Uasaki Kala ho Sada Savai !!

Jisape Prasann Kuber Ki Mai !

Usaka Jivan Chale Sukhadai !!

Jo Kuber Ka Path Karavai !

Usaka Beda Par Lagavai !!

Ujade Ghar Ko PUnah Basavai !

Shatru Ko Mitra Banavai !!

Sahastr Pustak Jo Dan karai !

Sab Sukh Bhog Padarth Pai !!

Pran Tyag Kar Swarg Me Jai !

Manas Parivar Kuber Kirti Gai !!

॥ Doha ॥

Shiv Bhakto Me Agrani, Shri Yaksharaj Kuber !

Hriday Me Gyan Prakash Bhar, Kar Do Door Andher !! 1 !!

Kar Do Door Andher Ab, Jara Karo Na Der !

Sharan Pada Hoon Apaki, Daya Ki Drishti Pher !! 2 !!

-: श्री कुबेर चालीसा समाप्त :-

Leave a Comment