श्री ललिता सहस्रनाम के फायदे: ललिता सहस्त्रनाम कैसे मौत से बचाती हैं

ललिता सहस्त्रनाम मौत के मुंह से बचाती है, दीर्घायु प्रदान करती है, अकाल मृत्यु का भय दूर करती है। आइए जानते हैं आज के लेख में क्या-क्या जानेंगे :-

  1. श्री ललिता सहस्त्र नाम क्या है
  2. श्री ललिता सहस्त्रनाम के फायदे व लाभ
  3. श्री ललिता सहस्त्रनाम के फायदे – विडियो

1. ललिता सहस्त्रनाम क्या है ?

ललिता सहस्त्रनाम ब्रह्मांड पुराण से लिया गया है। यह रचना संस्कृत भाषा में लिखी गई है। ललिता सहस्त्रनाम में मां ललिता के 1000 नामों का उल्लेख मिलता है।

ललिता सहस्त्रनाम को तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है। पहला पूर्व भाग, दूसरा स्रोत और तीसरा उत्तर भाग।
पूर्व भाग – इसमें ललिता सहस्त्रनाम के उत्पत्ति के बारे में बताया गया है।

स्त्रोत – इसमें ललिता सहस्त्रनाम अर्थात ललिता माता की 1000 नामों का वर्णन मिलता है।

उत्तर भाग – उत्तर भाग में ललिता सहस्त्रनाम के पाठ से होने वाले फायदे के बारे में बताया गया है।

जैसा कि हमने बताया ललिता सहस्त्रनाम ब्रह्मांड पुराण से लिया गया है। यह ब्रह्मांड पुराण का एक अंश है। ब्रह्मांड पुराण में इसका शीर्षक ‘ललितोपाख्यान’ है।

ब्रह्मांड पुराण के उत्तर भाग महामुनी अगस्त और भगवान हयग्रीव का संवाद है। ललिता सहस्त्रनाम को सर्वप्रथम भगवान हयग्रीव ने अगस्त मुनि को बताया था।

ललिता सहस्त्रनाम के पाठ से हम उनके 1000 नामों का जाप करते हैं। उनके प्रत्येक नाम का अपना अलग ही महत्व है।

 2. श्री ललिता सहस्रनाम पाठ के फायदे

श्री हरि विष्णु व शिव जी हिंदूओं के आराध्य देव हैं। इनके नाम की महिमा और नाम जप से होने वाले पुण्य लाभ को जो लोग ध्यान साधना करते हैं, वो लोग भली भांति जानते हैं।
लेकिन इस बात को बहुत कम लोग जानते हैं कि श्री हरि विष्णु के 1000 बार नाम जप करने से जितने पुण्य की प्राप्ति होती है, उतने पुण्य की प्राप्ति श्री शिव जी के एक बार नाम लेने से मिलता है।
लेकिन इससे भी ज्यादा चौंकाने वाली बात यह है कि श्री शिव जी के 1000 बार नाम जप करने पर जितने पुण्य लाभ की प्राप्ति होती है, उतने पुण्य फल की प्राप्ति श्री ललिता माता के एक बार नाम जप करने से मिलता है। ललिता सहस्त्रनाम में मां ललिता के एक हजार नामों का वर्णन किया गया है। श्री ललिता सहस्त्रनाम के एक बार जाप से श्री ललिता माता के एक हजार बार नाम जाप हो जाता है। इस इस हिसाब से ललिता सहस्त्रनाम के एक बार के जाप से कितने पुण्य की प्राप्ति होगी इसका हिसाब आप पाठक गण खुद ही लगा लीजिए।

आखिर श्री ललिता माता कौन है, जिनके नाम की महिमा श्रीहरि विष्णु और श्री शिव जी से ज्यादा ऊपर है, जानने के लिए यहां क्लिक करें ।

ललिता सहस्त्रनाम के नियमित पाठ से तीर्थ स्थल जाने पवित्र नदियों में स्नान करने से जो पुण्य की प्राप्ति होती है वह मिलती है अर्थात जो लोगों तीर्थ यात्रा नहीं कर सकते उन्हें ललिता सहस्रनाम का नियमित पाठ अवश्य ही करनी चाहिए।

ललिता सहस्त्रनाम को जीवनदायिनी कहा जाता है। ललिता सहस्त्रनाम का पाठ हमें मौत के मुंह से बचाती है, अकाल मृत्यु के भय को दूर करती है, दुर्घटनाओं आदि से बचाती है। व्यक्ति दीर्घायु प्राप्त करता है।

यदि कोई व्यक्ति बीमार हैं तो उसे ललिता सहस्त्रनाम के जाप से अभिमंत्रित किया हुआ जल पिलाने से रोगी शीघ्र ही स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करता है।

ललिता सहस्त्रनाम का नियमित पाठ करने वाले व्यक्ति पर शनि राहु केतु आदि बुरे ग्रहों का दोष नहीं लगता। नजर दोष और काले जादू से भी मुक्ति मिलती है।
ललिता सहस्त्रनाम के नियमित पाठ से गुणवान संतान की प्राप्ति होती है।

ललिता सहस्त्रनाम के पाठ करने से शत्रुओं का भय नहीं रहता, साधक का कोई भी शत्रु कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

यह भी पढ़ें  श्री ललिता सहस्त्रनाम पढ़ने के 34 अद्भुत चमत्कारिक फायदे व लाभ

3. श्री ललिता सहस्रनाम पाठ के फायदे – विडियो

दोस्तों अभी हमने श्री ललिता सहस्त्रनाम क्या है इसके क्या फायदे हैं यह जाना। आइए अब ललिता सहस्त्रनाम के पाठ से होने वाले कुछ विशेष लाभ व फायदे के बारे में वीडियो के माध्यम से जानते हैं। वीडियो के माध्यम से जानने के लिए नीचे क्लिक करे

ललिता सहस्त्रनाम के क्या फायदे हैं यह जाना। आप अपनी राय या सुझाव हमें कामेंट बॉक्स में बता सकते हैं। हमारे सभी आर्टिकल का लिस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें ।

Leave a Comment