Saraswati Chalisa Lyrics : श्री सरस्वती चालीसा व इसके चमत्कारिक लाभ

1. श्री सरस्वती चालीसा हिंदी में

॥दोहा॥

जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि।

बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥1

पूर्ण जगत में व्याप्त तव, महिमा अमित अनंतु।

दुष्जनों के पाप को, मातु तु ही अब हन्तु॥2

॥चौपाई॥

जय श्री सकल बुद्धि बलरासी।

जय सर्वज्ञ अमर अविनाशी॥ 1

जय जय जय वीणाकर धारी।

करती सदा सुहंस सवारी॥2

रूप चतुर्भुज धारी माता।

सकल विश्व अन्दर विख्याता॥3

जग में पाप बुद्धि जब होती।

तब ही धर्म की फीकी ज्योति॥4

तब ही मातु का निज अवतारी।

पाप हीन करती महतारी॥5

वाल्मीकिजी थे हत्यारा।

तव प्रसाद जानै संसारा॥6

रामचरित जो रचे बनाई।

आदि कवि की पदवी पाई॥7

कालिदास जो भये विख्याता।

तेरी कृपा दृष्टि से माता॥8

तुलसी सूर आदि विद्वाना।

भये और जो ज्ञानी नाना॥9

तिन्ह न और रहेउ अवलम्बा।

केव कृपा आपकी अम्बा॥10

करहु कृपा सोइ मातु भवानी।

दुखित दीन निज दासहि जानी॥11

पुत्र करहिं अपराध बहूता।

तेहि न धरई चित माता॥12

राखु लाज जननि अब मेरी।

विनय करउं भांति बहु तेरी॥13

मैं अनाथ तेरी अवलंबा।

कृपा करउ जय जय जगदंबा॥14

मधुकैटभ जो अति बलवाना।

बाहुयुद्ध विष्णु से ठाना॥15

समर हजार पाँच में घोरा।

फिर भी मुख उनसे नहीं मोरा॥16

मातु सहाय कीन्ह तेहि काला।

बुद्धि विपरीत भई खलहाला॥17

तेहि ते मृत्यु भई खल केरी।

पुरवहु मातु मनोरथ मेरी॥18

चंड मुण्ड जो थे विख्याता।

क्षण महु संहारे उन माता॥19

रक्त बीज से समरथ पापी।

सुरमुनि हदय धरा सब काँपी॥20

काटेउ सिर जिमि कदली खम्बा।

बारबार बिन वउं जगदंबा॥21

जगप्रसिद्ध जो शुंभनिशुंभा।

क्षण में बाँधे ताहि तू अम्बा॥22

भरतमातु बुद्धि फेरेऊ जाई।

रामचन्द्र बनवास कराई॥23

एहिविधि रावण वध तू कीन्हा।

सुर नरमुनि सबको सुख दीन्हा॥24

को समरथ तव यश गुन गाना।

निगम अनादि अनंत बखाना॥25

विष्णु रुद्र जस कहिन मारी।

जिनकी हो तुम रक्षाकारी॥26

रक्त दन्तिका और शताक्षी।

नाम अपार है दानव भक्षी॥27

दुर्गम काज धरा पर कीन्हा।

दुर्गा नाम सकल जग लीन्हा॥28

दुर्ग आदि हरनी तू माता।

कृपा करहु जब जब सुखदाता॥29

नृप कोपित को मारन चाहे।

कानन में घेरे मृग नाहे॥30

सागर मध्य पोत के भंजे।

अति तूफान नहिं कोऊ संगे॥31

भूत प्रेत बाधा या दुःख में।

हो दरिद्र अथवा संकट में॥32

नाम जपे मंगल सब होई।

संशय इसमें करई न कोई॥33

पुत्रहीन जो आतुर भाई।

सबै छांड़ि पूजें एहि भाई॥34

करै पाठ नित यह चालीसा।

होय पुत्र सुन्दर गुण ईशा॥35

धूपादिक नैवेद्य चढ़ावै।

संकट रहित अवश्य हो जावै॥36

भक्ति मातु की करैं हमेशा।

निकट न आवै ताहि कलेशा॥37

बंदी पाठ करें सत बारा।

बंदी पाश दूर हो सारा॥38

रामसागर बाँधि हेतु भवानी।

कीजै कृपा दास निज जानी।39

॥दोहा॥

मातु सूर्य कान्ति तव, अन्धकार मम रूप।

डूबन से रक्षा करहु परूँ न मैं भव कूप॥1

बलबुद्धि विद्या देहु मोहि, सुनहु सरस्वती मातु।

राम सागर अधम को आश्रय तू ही देदातु॥2

श्री सरस्वती चालीसा पढ़ने के फायदे व लाभ

श्री सरस्वती माता ज्ञान और विद्या की देवी है। श्री सरस्वती चालीसा के पाठ से मां सरस्वती प्रसन्न होती है। श्री सरस्वती माता की कृपा से व्यक्ति गुणवान व ज्ञानी बनता है।

श्री सरस्वती चालीसा के पाठ से सभी वर्गों के लोगों को लाभ मिलता है। विद्यार्थियों को विद्या अध्ययन में लाभ मिलता है। युवाओं को अपने काम व्यवसाय कैरियर में नई ऊंचाइयां प्राप्त होती है। बुजुर्ग अपने परिवार के साथ तालमेल बनाने में सफल होते हैं। जनरेशन गैप वाली परेशानियां उनके सामने नहीं आती है।

जो गृहस्थ जीवन में है, संतानहीन है, उसे संतान सुख की प्राप्ति होती है। चरित्रवान संतान की प्राप्ति होती है।

श्री सरस्वती चालीसा English में

Doha

Janak Janani Padam Raj, Nij Mastak Par Dhari !

Bandau Matu Saraswati, Buddhi Bal De Datari !!1

Purn Jagat Mein Vyapt Tav, Mahima Amit Anantu !

Dushtjano Ke Paap Ko, Matu Tuhi Ab Hantu !!2

Chaupaee

Jai Shri Sakal Budhi Balrasi !

Jai Sarvagya Amar Avinasi !!1

Jai Jai Jai Venakar Dhari !

Karti Sada Suhans Savari !!2

Roop Chaturbhujdhari Mata !

Sakal Vishv Andar Vikhyata !!3

Jag Mein Paap Budhi Jab Hoti !

Tab hi Dharm Ki Phiki Jyoti !!4

Tab hi Matu ka Nij Avtari !

Paap Heen Karti Mahitari !!5

Balmiki Ji The hatyara !

Tav Prsad Jane Sansara !!6

Ramchrit Jo Rache Banai !

Aadi Kavi Ki Padvi Pai !!7

Kalidas Jo Bhae Vikhata !

Teri Kripa Drishti Se Mata !!8

Tulsi Sur Aadi Vidvana !

Bhaye Aur Jo Gyani Nana !!9

Tinhe Na Aur Raheu Avlamba !

Kev Kripa Aapki Amba !!10

Karhu Kripa Soi Matu Bhavani !

Dukhit Deen Nij Dashi Jani !!11

Putra Karahin Apradh Bahuta !

Tehi Na dharihi Chitt Mata !!12

Rakhu Laj Janani Ab Meri !

Vine Karu Bahu Bhanti bhu teri !!13

Mai Anath Teri Avlamba !

Kripa Karhu Jai Jai Jagdamba !!14

Madhu Kaitabh Jo Ati Balvana !

Bahuyudh Vishnu se Thana !!15

Samar Hajar Panch Mein Ghora !

Phir Bhi Mukh Unse Nahi Moda !!16

Matu Sahae kinh Tehi Kala !

Budhi Viprit bahi Khalhala !!17

Tehi Mritu Bhai Khal Keri !

Purvahu Matu Manorath Meri !!18

Chand Mund Jo The Vikhyata !

Chan Mahu Sanhare Tehi Mata !!19

Raktabij Se Samrath Papi !

Sur-Muni Hriday Dhara Sab Kampi !!20

Kateu Sir Jimi Kadli Khamba !

Baar Baar Binvau Jagdamba !!21

Jag Prasidh Jo Shumbh Nishumbha !

Chhan Me Bandhe Tahi Tu Amba !!22

Bharat-Matu Budhi Phereu Jayee !

Ramachandra Banvas Karaee !!23

Ehi Vidhi Ravan Vadh Tum Kina !

Sur Nar Muni Sabko Sukh Dina !!24

Ko Samrath Tav Yash Gun Gana !

Nigam Anadi Anant Bakhana 25

Vishnu Rudra jas kahi Na Mari !

Jinki Ho Tum Rakshakari !!26

Rakt Dantika Aur Shatakshi !

Naam Apaar Hai Danav Bhakshi !!27

Durgam Kaj Dhara Par Kina !

Durga Naam Sakal Jag Lina !!28

Durg Aadi Harani Tu Mata !

Kripa Krhu Jab Jab Sukhdata !!29

Nrip Kopit Jo Maran Chahi !

Kanan Mein Ghere Mrig Nahi !!30

Sagar Madhy Pot Ke Bhanje !

Ati Toofan Nahi Kou Sange !!31

Bhoot Pret Badha Yaa Dukh Mein !

Ho Daridra Athava Sankat Mein !!32

Naam Jape Mangal Sab hoi !

Sanshay Isame Karai Na Koi !!33

Putrahin Jo Aatur Bhai !

Sabi Chhadi Puje Ehi bhai !!34

Karai Path Nit Yah Chaalisa !

Hoy Putra Sundar Gun Isa !!35

Dhupadik Naivedy Chadhave !

Sankat Rahit Avashy Ho Jave !!36

Bhakti Matu Ki Kari Hamesha !

Nikat Na Aave Tahi Kalesha !!37

Bandi Path Kare Shat Bara!

Bandi Pash Door Ho Sara !!38

Ramsaagar bandhi hetu Bhavani !

Kijai kripa Daa Nij Jani !!39

Doha

Mata Soraj Kanti Tav, Andhakar Mam Roop !

Doban Te Raksha Krhu, Paru Na Mein Bhav-Koop !!1

Bal Buddhi Vidya Dehu Mohi, Sunhu Sarasvati Matu !

Ram sagar adam ko, Aashrae tu hi detaru !!2

Leave a Comment